स्व-रोजगार (Self Employment)/व्यवसाय का महत्व :

नौकरी सृजन: छोटे व्यवसाय, जो अक्सर स्व-रोज़गार व्यक्तियों के नेतृत्व में होते हैं, नौकरी सृजन में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। उद्यमी अपने और दूसरों के लिए रोजगार के अवसर पैदा करते हैं, बेरोजगारी दर को कम करते हैं और आर्थिक विकास में योगदान देते हैं।

नवाचार और रचनात्मकता: उद्यमी अक्सर नवाचार में सबसे आगे रहते हैं। वे बाज़ार में नए विचार, उत्पाद और सेवाएँ लाते हैं, प्रतिस्पर्धा बढ़ाते हैं और विभिन्न उद्योगों में रचनात्मकता को बढ़ावा देते हैं।

आर्थिक विकास: छोटे और मध्यम आकार के उद्यम (एसएमई) देश की जीडीपी में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। स्व-रोज़गार उद्यमों और व्यवसायों की वृद्धि से उत्पादकता में वृद्धि और धन पैदा करके आर्थिक विकास हो सकता है।

लचीलापन और स्वायत्तता: स्व-रोज़गार व्यक्तियों को अपना स्वयं का कार्यक्रम निर्धारित करने, स्वतंत्र रूप से निर्णय लेने और अपने जुनून और मूल्यों के अनुरूप काम करने की स्वतंत्रता प्रदान करता है। इस स्वायत्तता से कार्य संतुष्टि में वृद्धि हो सकती है।

सामुदायिक विकास: स्थानीय व्यवसाय, जो अक्सर स्व-रोज़गार व्यक्तियों द्वारा चलाए जाते हैं, सामुदायिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे पड़ोस के चरित्र में योगदान करते हैं, स्थानीय पहल का समर्थन करते हैं और सामुदायिक पहचान की भावना पैदा करते हैं।

धन वितरण: उद्यमिता धन के अधिक न्यायसंगत वितरण में योगदान कर सकती है। यह विविध पृष्ठभूमि के व्यक्तियों को धन और वित्तीय स्वतंत्रता बनाने के अवसर प्रदान करता है।

विशिष्ट कौशल और विशेषज्ञता: स्व-रोज़गार वाले व्यक्ति अक्सर बाज़ार में विशेष कौशल और विशेषज्ञता लाते हैं। कौशल की यह विविधता एक सर्वांगीण और प्रतिस्पर्धी कारोबारी माहौल में योगदान करती है।

जोखिम लेना और पहल करना: उद्यमिता में परिकलित जोखिम लेना और अवसरों का लाभ उठाना शामिल है। व्यक्तियों की जोखिम लेने और व्यावसायिक उद्यम शुरू करने की इच्छा आर्थिक प्रगति के पीछे एक प्रेरक शक्ति है।

कर राजस्व: स्व-रोज़गार वाले व्यक्ति और व्यवसाय कर राजस्व में योगदान करते हैं, जो सार्वजनिक सेवाओं और बुनियादी ढांचे को वित्तपोषित करता है। यह वित्तीय योगदान सरकारी संस्थानों के कामकाज के लिए महत्वपूर्ण है।

वैश्विक प्रतिस्पर्धात्मकता: उद्यमी और छोटे व्यवसाय किसी देश की वैश्विक प्रतिस्पर्धात्मकता को बढ़ा सकते हैं। वे नवोन्मेषी उत्पाद और सेवाएँ पेश करते हैं जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा कर सकते हैं, वैश्विक व्यापार में योगदान दे सकते हैं।

हमारा प्रयास :

अतीत मैं व्यवसाय के जाट समाज का ज्यादा लेना देना नहीं था, या तो वो अपनी खेती बड़ी मैं व्यस्त रहता था या फिर देश रक्षा हेतु सैन्य अभियान मैं जीवन व्यतीत करता था पर बदलती जीवन शैली और पूंजीवाद ने अनेक अवसर सबके लिए खोल दिए और आज हमारे जाट समाज मैं भी अनेक सफल व्यवसायी देखने को मिल रहे हैं जो न सिर्फ लोगों को रोजगार दे रहे अपितु देश के कर संवर्धन मैं भी अग्रणी भूमिका निभा रहे है, वैसे तो पूँजी लगाकर व्यापर करना कोई बड़ी बात नहीं पर असली परीक्षा होती है उस व्यवसाय को कुशलतापूर्वक चलाना और उसे निरंतर गतिशील रखना।

हमारा प्रयास है की जाट समाज के ऐसे सफल उद्यमियों का ग्रुप बनाना जहाँ से किसी भी प्रतिभागी को अपना रोजगार या व्यवसाय विधिवत शुरू करने की, व्यापार मैं ध्यान देने योग्य बातों की तथा व्यापार सम्बन्धी सही जानकारियां मिल पाएं और जाट समाज के युवा भी स्वरोजगार व व्यवसाय मैं अपने सपने साकार कर सके।

You Missed

संसद (Parliament) के मानसून सत्र 2024 के शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री ने मीडिया को संबोधित किया..
मिज़ोरम (Mizoram): प्राकर्तिक सौंदर्य से घिरा एक अलौकिक व अद्भुत स्थान..
इजराइल (Israel) ने हूती विद्रोहियों के ठिकाने पर भीषण आक्रमण कर दी हमलावरों को सख्त चेतावनी..
गुरु पूर्णिमा (Guru Purnima): अपने गुरु के प्रति श्रद्धा और सम्मान का पर्व..
“भविष्य अभी है” (The Future is Now): थीम का केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने IMC-2024 के लिए किया अनावरण..
चरक संहिता (Charak Samhita): आयुर्वेद के सबसे महत्वपूर्ण और प्राचीन ग्रंथों में से एक का संक्षिप्त परिचय..