Inspirational Story: जब चाणक्य ने व्यक्ति को परखने की तीन कसौटी बताई

मल्टीमीडिया डेस्क। एक दिन चाणक्य का एक परिचित उनके पास आया और बड़े उत्साह के साथ कहने लगा, ‘आप जानते हैं मैने अभी-अभी आपके मित्र के बारे में क्या सुना है?’ चाणक्य अपनी तर्कशक्ति, ज्ञान और व्यवहार-कुशलता के लिए विख्यात थे। उन्होंने अपने परिचित से कहा, ‘आपकी बात मैं सुनूं इससे पहले कुछ कहना चाहूंगा कि आप त्रिगुण परीक्षण से गुजरें।’

उस व्यक्ति ने कहा, ‘यह त्रिगुण परीक्षण क्या है?’

चाणक्य ने समझाया, ‘आप मुझे मेरे मित्र के बारे में बताएं इससे पहले अच्छा यह होगा कि, जो कहे उसको थोड़ा परख ले, जान ले। इसलिए मैं इस प्रक्रिया को त्रिगुण परीक्षण कहता हूं। इसकी पहली कसौटी सत्य है। इस कसौटी के अनुसार जानना जरूरी है कि जो आप कहने वाले है, वह सत्य है और आप उसके बारे में अच्छी तरह से जानते हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× Support