Pryag Kumbh: अवधूतनी बन कठोर जीवन बिता रहीं ये महिला संन्यासी, जानिए इनके बारे में

डॉ. राकेश राय, कुंभनगर। दशनाम जूना अखाड़े के नागा साधुओं के बीच पंडालों की एक श्रृंखला न केवल कौतूहल पैदा कर रही है बल्कि सभी को अपनी ओर आकर्षित भी कर रही है। वजह है यहां महिला संन्यासियों की मौजूदगी।

दरअसल अखाड़े में महिलाओं को नागा बनाए जाने की कोई परंपरा नहीं है। महिलाएं वस्त्र धारण करती हैं और नागा की जगह अवधूतनी कही जाती हैं। लेकिन, इससे यह समझने की भूल नहीं करनी होगी कि अवधूतनी बनना आसान है। इसके लिए उन्हें संस्कारों की बेहद कठिन प्रक्रिया से गुजर कर रिश्तों का पिडदान करना होता है।

इसके पीछे उनका मकसद दत्तात्रेय भगवान की शरण में रहकर धर्म कल्याण के कार्य में अपनी भूमिका सुनिश्चित करनी है। अवधूतनी की दिनचर्या भी अखाड़े की पंरपरा के मुताबिक उसी तरह होती है, जैसी कि नागा साधुओं की। फर्क सिर्फ वस्त्र धारण करने को लेकर है। सुबह स्नान और फिर पूरे दिन अपने इष्ट का ध्यान।

जूना अखाड़े की महिला शाखा की अंतरराष्ट्रीय महंत आराधना गिरि अखाड़े में महिला संन्यासियों की स्थिति और दीक्षा की प्रक्रिया को और साफ करती हैं। बकौल अध्यक्ष अखाड़े की संन्यासी बनने के लिए महिलाओं को पहले गुरु के समक्ष संकल्प की प्रतिबद्धता सिद्ध करनी होती है। इसे सिद्ध करने में कई बार 10 से 12 बरस भी लग जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× Support